एक मंज़र-नक़्शे फ़रियादी-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Faiz Ahmed Faiz

एक मंज़र-नक़्शे फ़रियादी-फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Faiz Ahmed Faiz

बाम-ओ-दर ख़ामशी के बोझ से चूर
आसमानों से जू-ए-दर्द रवां
चांद का दुख-भरा फ़साना-ए-नूर
शाहराहों की ख़ाक में गलतां
ख्वाबगाहों में नीम-तारीकी
मुज़महल लय रुबाबे-हस्ती को
हल्के-हल्के सुरों में नौहा कुनां

 

Leave a Reply