एक छवि-सात गीत-वर्ष -धर्मवीर भारती-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Dharamvir Bharati

एक छवि-सात गीत-वर्ष -धर्मवीर भारती-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Dharamvir Bharati

छिन में धूप
छाँह छिन ओझल,
पल पल चंचल-
गोरी दुबली, बेला उजली, जैसे बदली क्वार की

सुबुक हठीली
हरी पर्त में
हल्की नीली
आग लपेटे – एक कचनार कली

दखिन पवन में
झोंके लेती डार की
लहर-बदन में

जिसने आ कर
कर दी है
छवि और उजागर
मेरे छोटे फूलबसे घर, धूपधुली छत, छाँहलिपी दीवार की!

Leave a Reply