एक चट्टान के लिए कतबा-कविता-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov) 

एक चट्टान के लिए कतबा-कविता-रसूल हमज़ातोव-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Rasul Gamzatov(Rasool Hamzatov)

जवांमर्दी उसी रिफ़अत पे पहुंची
जहां से बुज़दिली ने जस्त की थी

Leave a Reply