ऊपर गर्जन-तर्जन करते-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

ऊपर गर्जन-तर्जन करते-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

 

ऊपर
गर्जन-तर्जन करते,
मेघ मंडलाकार घहरते,
क्षण-क्षण
कोप कटाक्ष तड़ित से,
भयाक्रांत
अम्बर को करते।

नीचे,
नदिया केन किशोरी,
माँ धरती के आँगन में-
प्रवहमान है
धीर नीर से भरी-भरी,
पुलकित लहरों से सँवरी
छल-छलना वाले मेघों से
नहीं डरी।

रचनाकाल: २९-०८-१९९१

 

Leave a Reply