उड़ी, आई-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

उड़ी, आई-खुली आँखें खुले डैने -केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

 

उड़ी
आई,
प्यार का अवलम्ब देकर-
चहचहाई।

गई,
ऊपर
मुझे तजकर;
हुई ओझल,
पुनः वापस नहीं आई-
प्यार का अवलम्ब लेकर।

मैं,
बिना उसके
उसे अब भी जिलाए,
प्यार का अवलम्ब पाए,
जी रहा हूँ
जिंदगी को
जगमगाए।

रचनाकाल: ०४-०३-१९९०

 

Leave a Reply