ईछन तीछन बान बरवान सों-सुजानहित -घनानंद-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ghananand 

ईछन तीछन बान बरवान सों-सुजानहित -घनानंद-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ghananand

ईछन तीछन बान बरवान सों पैनी दसान लै सान चढ़ावत
प्राननि प्यासे, भरे अति पानिप, मायल घायल चोंप, चढ़ावत।
यौं घनआनंद छावत भावत जान सजीवन ओरे ते आंवत।
लोग हैं लागि कवित्त बनावत मोहितो मेरे कवित्त बनावत।

Leave a Reply