इश्क-बेबाक को रोके हुए है-कविता -फ़िराक़ गोरखपुरी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Firaq Gorakhpuri

इश्क-बेबाक को रोके हुए है-कविता -फ़िराक़ गोरखपुरी-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Firaq Gorakhpuri

इश्क़-बेबाक को रोके हुए है और ही कुछ,
ख़्वाब-आलूदा निगाहें तेरी बेदार सही

तेरी आहिस्ता-खिरामी भी सुकूने-दिल है,
इस रविश में भी तेरी शोखी-ए-रफ़्तार सही

कारवानों को वो गुमराह न होने देगा,
इश्क़ की आखरी मंज़िल रसनो-दार सही

निगाहें-शौक़ में फिर भी हैं तेरे ही जलवे,
न सही दीद ,तेरी हसरते-दीदार सही

मेरे इसरारे-मोहब्बत को अगर आँख नहीं,
तेरे इन्कार से पैदा तेरा इकरार सही

जो सरे-बज़्म छलक जाये वो पैमाना है,
यूँ तो गर्दिश में हरइक सागरे-सरशार सही

आलमे-कुद्स की पड़ती हैं इन्हीं पर छूटें,
हुस्न बदमस्त सही,इश्क़ सियाहकर सही

बेखबर !इश्क़ में जीने के लिए जल्दी कर,
जान देने के लिए फुर्सते-बिस्यार सही

फ़िर भी है क़ाबिले-ताज़ीर कि मुजरिम है’फिराक़’,
हमने माना कि मोहब्बत का गुनहगार सही

Leave a Reply