इक लोक-कथा-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल) 

इक लोक-कथा-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल)

पानी दे कंढे ससताउंदियां
मैं ते चिनार दा बिरख कोळो कोळ बैठे सी
साडे प्रछावें पानी विच पैंदे सी,
पानी दी लिशकोर साडे दोहां ते पैंदी सी ।

पानी दे किनारे
मैं, चिनार दा बिरख ते इक बिल्ली आराम कर रहे हां
साडे प्रछावें पानी विच पैंदे हन
रुक्ख, बिल्ली ते मेरे
पानी दी लिशकोर
चिनार बिल्ली ते मेरे ‘ते पैंदी है ।

पानी दे किनारे
चिनार, बिल्ली, सूरज ते मैं
बैठे आराम करदे हां
साडे प्रछावें पानी ‘ते पैंदे हन ।
पानी दी लिशकोर साडे मूंह ‘ते वज्जदी है

चिनार, बिल्ली, सूरज ते मेरे उत्ते ।

पानी दे कंढे बैठे
चिनार, बिल्ली, मैं, सूरज ते साडी ज़िन्दगी
बैठे आराम करदे हां
साडे प्रछावें पानी ‘चों दिसदे हन
पानी दा लिशकारा साडे मूंह ‘ते वज्जदा है ।

पानी दे कंढे बैठे
पहलां बिल्ली तुर जावेगी
इस दा परतौ पानी ‘चों मुक्क जावेगा
फिर मैं जावांगा
मेरा परतौ पानी ‘चों गुंम जावेगा
फिर बिरख अलोप हो जावेगा
ते नाल ही उस दा प्रछावां वी
पिच्छे सिरफ़ सूरज रह जावेगा

पानी दे कंढे आराम फरमाउंदियां
चिनार, बिल्ली, साडी ज़िन्दगी, सूरज ते मैं
पानी ठंढा है
बिरख फैलदा है
मैं कविता लिखदा हां
सूरज निघ्घ दिन्दा है

वड्डी गल्ल जीउंदे होना है
पानी दी लिशकोर साडे ‘ते पैंदी है
चिनार, बिल्ली, सूरज, साडी ज़िन्दगी
ते मेरे उत्ते ।

Leave a Reply