इक तराना पंजाबी किसान दे लई-पंजाबी कविता -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

इक तराना पंजाबी किसान दे लई-पंजाबी कविता -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

उट्ठ उतांह नूं जट्टा
मर्दा क्युं जानैं
भुल्या, तूं जग दा अन्नदाता
तेरी बांदी धरती माता
तूं जग दा पालन हारा
ते मर्दा क्युं जानैं
उट्ठ उतांह नूं जट्टा
मर्दा क्युं जानैं

जरनल, करनल, सूबेदार
डिपटी, डी सी, थानेदार
सारे तेरा दित्ता खावण
तूं जे ना बीजें, तूं जे ना गाहवें
भुक्खे, भाने सभ मर जावण
इह चाकर, तूं सरकार
मर्दा क्युं जानैं
उट्ठ उतांह नूं जट्टा
मर्दा क्युं जानैं

विच कचहरी, चुंगी, थाणे
कीह अनभोल ते कीह स्याणे
कीह असराफ़ ते कीह निमाणे
सारे खज्जल ख़्वार
मर्दा क्युं जानैं
उट्ठ उतांह नूं जट्टा

एका कर लो हो जो कट्ठे
भुल्ल जो रंघड़, चीमे, चट्ठे
सभ्भे दा इक परवार
मर्दा क्युं जानैं

जे चढ़ आवन फ़ौजां वाले
तूं वी छवियां लम्ब करा लै
तेरा हक तेरी तलवार
मर्दा क्युं जानैं

दे ‘अल्ल्हा हू’ दी मार
तूं मर्दा क्युं जानैं
उट्ठ उतांह नूं जट्टा

Leave a Reply