इक कविता-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल) 

इक कविता-नाज़िम हिकमत रन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nazim Hikmet Ran(अनुवाद : हरभजन सिंह हुन्दल)

सवेर दे छे वज्जे ने
मैं दिन दा दरवाज़ा खोल्हदा हां
ते अन्दर पैर पाउंदा हां ।
खिड़की विचों आकाश दा ज़ायका
मैनूं जी आयां आखदा है ।
ते शीशे विच, कल्ल्ह दे पए शिकन
मेरे मत्थे उत्ते विखाली दिन्दे ने,
मेरे मगर औरत दी
आड़ू दी लूंईं नालों नरम आवाज़ सुणदी है
ते रेडीयो तों मेरे वतन दियां
ख़बरां आ रहियां हन ।

हुन मेरी हिरस भर के
कंढ्यां तों दी डुल्ल्हन लग्गदी है
ते मैं घंट्यां दी बग़ीची विच,
इक बिरख तों दूसरे तीक दौड़दा फिरांगा
ते मेरी प्यारी,
सूरज गरूब हो जावेगा
ते मैनूं आस है,
नवें असमान दा ज़ायका
मेरी उडीक कर रिहा होवेगा
मैनूं पक्की आस है ।

(14 सतम्बर 1960)

Leave a Reply