आ गई सर पर क़ज़ा लो सारा सामाँ रह गया-ग़ज़लें-भारतेंदु हरिश्चंद्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bharatendu Harishchandra 

आ गई सर पर क़ज़ा लो सारा सामाँ रह गया-ग़ज़लें-भारतेंदु हरिश्चंद्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bharatendu Harishchandra

आ गई सर पर क़ज़ा लो सारा सामाँ रह गया
ऐ फ़लक क्या क्या हमारे दिल में अरमाँ रह गया

बाग़बाँ है चार दिन की बाग़-ए-आलम में बहार
फूल सब मुरझा गए ख़ाली बयाबाँ रह गया

इतना एहसाँ और कर लिल्लाह ऐ दस्त-ए-जुनूँ
बाक़ी गर्दन में फ़क़त तार-ए-गरेबाँ रह गया

याद आई जब तुम्हारे रूप रौशन की चमक
मैं सरासर सूरत-ए-आईना हैराँ रह गया

ले चले दो फूल भी इस बाग़-ए-आलम से न हम
वक़्त-ए-रहलत हैफ़ है ख़ाली ही दामाँ रह गया

मर गए हम पर न आए तुम ख़बर को ऐ सनम
हौसला अब दिल का दिल ही में मिरी जाँ रह गया

ना-तवानी ने दिखाया ज़ोर अपना ऐ ‘रसा’
सूरत-ए-नक़्श-ए-क़दम मैं बस नुमायाँ रह गया
नातवानी[8] ने दिखाया ज़ोर अपना ऐ ‘रसा’
सूरते नक्शे क़दम मैं बस नुमायाँ  रह गया

Leave a Reply