आमि मिलिटारिर बुड़ो घोड़ा (देवनागरी रूप)-मैं मिलिट्री का बूढ़ा घोड़ा -नागार्जुन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nagarjun 

आमि मिलिटारिर बुड़ो घोड़ा (देवनागरी रूप)-मैं मिलिट्री का बूढ़ा घोड़ा -नागार्जुन-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Nagarjun

आमि
मिलिटारिर बुड़ो घोड़ा
आमाके ओरा कोरबे निलाम
कोनो चतुर ताँगाबाला
निये जाबे आमाके
बोसिए देबे चोखेर धारे
रंगीन खोलश
बलते धाकबे :
सामने चल बेटा
सामने चल
सामने….

(27.9.78)

This Post Has One Comment

Leave a Reply