आबादियों में दश्त का मंज़र भी आएगा-ग़ज़लें-नौशाद अली(नौशाद लखनवी)-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Naushad Ali

आबादियों में दश्त का मंज़र भी आएगा-ग़ज़लें-नौशाद अली(नौशाद लखनवी)-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Naushad Ali

आबादियों में दश्त का मंज़र भी आएगा
गुज़रोगे शहर से तो मिरा घर भी आएगा

अच्छी नहीं नज़ाकत-ए-एहसास इस क़दर
शीशा अगर बनोगे तो पत्थर भी आएगा

सैराब हो के शाद न हों रह-रवान-ए-शौक़
रस्ते में तिश्नगी का समुंदर भी आएगा

दैर ओ हरम में ख़ाक उड़ाते चले चलो
तुम जिस की जुस्तुजू में हो वो दर भी आएगा

बैठा हूँ कब से कूचा-ए-क़ातिल में सर-निगूँ
क़ातिल के हाथ में कभी ख़ंजर भी आएगा

सरशार हो के जा चुके यारान-ए-मय-कदा
साक़ी हमारे नाम का साग़र भी आएगा

इस वास्ते उठाते हैं काँटों के नाज़ हम
इक दिन तो अपने हाथ गुल-ए-तर भी आएगा

इतनी भी याद ख़ूब नहीं अहद-ए-इश्क़ की
नज़रों में तर्क-ए-इश्क़ का मंज़र भी आएगा

रूदाद-ए-इश्क़ इस लिए अब तक न की बयाँ
दिल में जो दर्द है वो ज़बाँ पर भी आएगा

जिस दिन की मुद्दतों से है ‘नौशाद’ जुस्तुजू
क्या जाने दिन हमें वो मयस्सर भी आएगा

This Post Has One Comment

Leave a Reply