आज वेदना सुख पाती है-लहर पुकारे -गोपालदास नीरज-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Gopal Das Neeraj

आज वेदना सुख पाती है-लहर पुकारे -गोपालदास नीरज-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Gopal Das Neeraj

आज वेदना सुख पाती है!

तेरी याद अचानक आकर,
मुझे रुला जाती जो क्षणभर,
इसका अर्थ यही है प्रेयसी याद तुझे मेरी आती है!
आज वेदना सुख पाती है!

मेरे गीतों में सज-सजकर-
छाती जो तेरी छवि सुंदर,
इसका अर्थ यही है मुझमें तू निज गीत स्वयं गाती है!
आज वेदना सुख पाती है!

दूर कहाँ जाएगी निष्ठुर!
मेरा हृदय, प्यार ठुकराकर,
मेरा प्यार प्राप्त कर ही तो प्रेयसी प्रेयसी कहलाती है!
आज वेदना सुख पाती है!

Leave a Reply