आज मुद्दत में वो याद आये हैं-ग़ज़लें-एक जवान मौत-जाँ निसार अख़्तर-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaan Nisar Akhtar

आज मुद्दत में वो याद आये हैं-ग़ज़लें-एक जवान मौत-जाँ निसार अख़्तर-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Jaan Nisar Akhtar

आज मुद्दत में वो याद आये हैं
दरोदीवार पे कुछ साए हैं

आबगीनों से न टकरा पाए
कोहसारों से जो टकराए हैं

जिंदगी तेरे हवादिस हम को
कुछ न कुछ राह पे ले आये हैं

इतने मायूस तो हालात नहीं
लोग किस वास्ते घबराए हैं

उनकी जानिब न किसी ने देखा
जो हमें देख के शर्माए हैं

संगरेज़ों से खज़फ़ पारों से
कितने हीरे कभी चुन लाये हैं

Leave a Reply