आज इक हरफ़ को फिर-शामे-श्हरे-यारां -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

आज इक हरफ़ को फिर-शामे-श्हरे-यारां -फ़ैज़ अहमद फ़ैज़-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Faiz Ahmed Faiz

1 आज इक हरफ़ को फिर ढूंढता फिरता है ख़्याल

आज इक हरफ़ को फिर ढूंढता फिरता है ख़्याल
मध-भरा हरफ़ कोई ज़हर-भरा हरफ़ कोई
दिलनशीं हरफ़ कोई कहर-भरा हरफ़ कोई
हरफ़े-उलफ़त कोई दिलदारे-नज़र हो जैसे
जिससे मिलती है नज़र बोसा-ए-लब की सूरत
इतना रौशन कि सरे-मौजा-ए-ज़र हो जैसे
सोहबते-यार में आग़ाज़े-तरब की सूरत
हरफ़े-नफ़रत कोई शमशीरे-ग़ज़ब हो जैसे
ता-अबद शहरे-सितम जिससे तबह हो जायें
इतना तारीक कि शमशान की शब हो जैसे
लब पे लाऊं तो मेरे होंठ सियह हो जायें

2 आज हर सुर से हर इक राग का नाता टूटा

आज हर सुर से हर इक राग का नाता टूटा
ढूंढती फिरती है मुतरिब को फिर उसकी आवाज़
जोशिशे-दर्द से मजनूं के गरेबां की तरह
आज हर मौज हवा से है सवाली ख़िलकत
ला कोई नग़मा कोई सौत तेरी उम्र दराज़
नौहा-ए-ग़म ही सही शोरे-शहादत ही सही
सूरे-महशर ही सही बांगे-क्यामत ही सही

 

This Post Has One Comment

Leave a Reply