अस डोगरे आं आखने आं शानै कन्नै-गीत-डोगरी कविता -पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev

अस डोगरे आं आखने आं शानै कन्नै-गीत-डोगरी कविता -पद्मा सचदेव-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Padma Sachdev

अस डोगरे आं आखने आं शानै कन्नै।
अस डोगरे आं आखने आं शानै कन्नै।
असें जित्तीयां न जंगां घमसानै कन्नै।

निक्के निक्के घर साड़्हे, निक्की निक्की मरजी,
निक्कीयां न लोड़ां अस मती दे नीं गरजी
यस परौहने न रक्खने आं मानै कन्ने।
अस जित्तीयां………………….॥

डोगरे आं साड़्हे कन्ने डोगरी च बोल्लेओ,
मिट्ठड़ी जबान साड़्ही मोतीयें ने तोल्लेओ,
अस अक्खरें गी तोल्लने आं पान्नै कन्ने।
अस जित्तीयां………………….॥

उज्जड़ै दे लोक असें घरै च बसाए न,
रुट्टी बंडी खादी असें गलै कन्ने लाए न
सच्चें साड़्ही नीं बनतर स्हानै कन्ने।
अस जित्तीयां………………….॥

वैशनो ए माता साड़्ही पहाड़ें बिच्च रौंहदी ऐ,
कंजक पजोने तांईं खल्ल ढली औंदी ऐ
सच्चे गोपीयां बी सोभदीयां काहने कन्ने।
असें जित्तीयां न जंगां घमसानै कन्नै।

 

Leave a Reply