अव्यक्त गीत-अंतर्यात्रा-परंतप मिश्र-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Parantap Mishra

अव्यक्त गीत-अंतर्यात्रा-परंतप मिश्र-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Parantap Mishra

 

ऐसा क्यों होता है कि
तुम कुछ कह न सके और मैं
तुम्हारे शब्दों को तलाशता रहा,
तुम कुछ सुन न सके और मैं
प्रतिपल तुम्हे पुकारता रहा।
तुम कुछ देख न सके और मैं
सुंदर सपनों को सजाता रहा
तुम कुछ महसूस न सके और मैं
दर्द से हमेशा मुस्कुराता रहा।
तुम एक पत्र को न समझ सके और मैं
पातियों पर पातियाँ भेजता रहा,
तुम कोई गीत न गा सके और मैं
कविताओं की रचना करता गया।
तुम मित्र न बन सके और मैं
चिर मित्र की कल्पना कर बैठा,
तुम कवितायेँ न समझ सके और मैं
अक्षरों को शब्दों में पिरोता गया।
तुम आँखों में झाँक न सके और मैं
आंसुओं को छुपाता रहा,
तुम संगीत न समझ सके और मैं
ह्रदय ताल से गुनगुनाता रहा,

तुम कभी मिल न सके और मैं
तुम्हारी प्रतीक्षा करता रहा।

 

This Post Has 2 Comments

Leave a Reply