अमृत-मंथन-आत्मा की आँखें -रामधारी सिंह ‘दिनकर’ -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Ramdhari Singh Dinkar 

अमृत-मंथन-आत्मा की आँखें -रामधारी सिंह ‘दिनकर’ -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Ramdhari Singh Dinkar

1

जय हो, छोड़ो जलधि-मूल,
ऊपर आओ अविनाशी,
पन्थ जोहती खड़ी कूल पर
वसुधा दीन, पियासी ।
मन्दर थका, थके असुरासुर,
थका रज्जु का नाग,
थका सिन्धु उत्ताल,
शिथिल हो उगल रहा है झाग ।
निकल चुकी वारुणी, असुर
पी चुके मोहिनी हाला,
नीलकंठ शितिकंठ पी चुका
कालकूट का प्याला।
मिले नियति के भाग सभी को
सबकी पूरी चाह
जन्मो, जन्मो अमृत !
देवता देख रहे हैं राह ।

2

जन्मो पीड़ित, मथित उदाध
के आकुल अंतस्तल से,
जन्मो उद्वेलन-अशांति से ।
जन्मो कोलाहल से ।
वासुकि के कर्पित फण से,
जन्मो, सागर-शिला-नाग के
भीषण संघर्षण से ।
जन्मो जैसे जन्म ग्रहण
करती मणि चक्षुश्रवा से,
जन्मो जैसे किरण जन्म
लेती है सघन कुहा से ।
शमित करो विष की प्रचण्डता,
शमित करो यह दाह,
जन्मो जन्मो अमृत ! देवता
देख रहे हैं राह ।

Leave a Reply