अभी था…-ग़ज़लें-मोहनजीत कुकरेजा -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mohanjeet Kukreja Ghazals

अभी था…-ग़ज़लें-मोहनजीत कुकरेजा -Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Mohanjeet Kukreja Ghazals

जब तू नहीं था कुछ भी नहीं था,
तू जब मिला तो मैं ही नहीं था !

एक सदमे का बस इंतज़ार रहा,
मिल जायेगा तू सोचा नहीं था !

तू मिला पर एक छलावे जैसा,
अभी था… और अभी नहीं था !

और कब तक मैं इंतज़ार करता,
सब्र था… मगर इतना नहीं था !

तेरी आमद से पहले दम निकला,
साँसों को मैंने रोका नहीं था !!

This Post Has One Comment

Leave a Reply