अब और क्या किसी से मरासिम बढ़ाएं हम-दर्द आशोब -अहमद फ़राज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ahmed Faraz,

अब और क्या किसी से मरासिम बढ़ाएं हम-दर्द आशोब -अहमद फ़राज़-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Ahmed Faraz,

अब और क्या किसी से मरासिम बढ़ाएं हम
ये भी बहुत है तुझ को अगर भूल जाएं हम

सहरा-ए-ज़िन्दगी में कोई दूसरा न था
सुनते रहे हैं आप ही अपनी सदाएं हम

इस ज़िन्दगी में इतनी फ़राग़त किसे नसीब
इतना न याद आ कि तुझे भूल जाएं हम

तू इतनी दिल-ज़दा तो न थी ऐ शब-ए-फ़िराक
आ तेरे रास्ते में सितारे लुटाएं हम

वो लोग अब कहां हैं जो कहते थे कल ‘फ़राज़’
है है ख़ुदा-न-कर्दा तुझे भी रुलाएं हम

This Post Has One Comment

Leave a Reply