अफसर-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

अफसर-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

ये बड़कवे,
पुराने, गब्बर,
पेटू अफसर
चाल-फेर से
चला रहे हैं
राजतंत्र का
चक्कर-मक्कर
अब तक-अब तक,
इनसे पककर
टूट रही है
जनता थककर,
इन्हें हटा पाना है
मुश्किल,
इनके आगे
एक नहीं चल पाती
अक्किल।

रचनाकाल: २५-०७-१९७२

 

Leave a Reply