अपने जन्म दिन पर-त्रिकाल संध्या-भवानी प्रसाद मिश्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bhawani Prasad Mishra

अपने जन्म दिन पर-त्रिकाल संध्या-भवानी प्रसाद मिश्र-Hindi Poetry-कविता-Hindi Poem | Kavita Bhawani Prasad Mishra

 

बस इतना मै हूँ
एक सामान्य-सा अहं
एक सकुचा-सकुचा-सा
सदभाव

बस इतना मै हूँ
औए चाहता हूँ
बने रहें
मेरे ये नगण्य तत्व
जितने हैं उतने

मेरे भीतर
और छुएं मेरे बाहर
दूसरों को
जगाएं उनमे
अपने-अपनेपन का भाव
जो कम हो अभिमान से
जो नम हो
प्यार से कुछ ज्यादा

 

Leave a Reply