अन्याय की जीत-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

अन्याय की जीत-कहें केदार खरी खरी-केदारनाथ अग्रवाल-Hindi Poetry-हिंदी कविता -Hindi Poem | Hindi Kavita Kedarnath Agarwal

 

न्याय
से लड़ा अन्याय
एक से दूसरी
दूसरी से तीसरी
कचेहरी में,
अंत
में जीता अन्याय
जो था जबरजंग
चौपट हो गया न्याय।

रचनाकाल: २५-०२-१९७७

 

Leave a Reply